There was an error in this gadget

Saturday, 1 March 2014

सर एडवर्ड अल्वर्ट गेट जो 1912 में बंगाल से अलग बिहार एवं उड़ीसा राज्य के सर चार्ल्स स्टुअर्ट बेली के बाद दूसरे और अंतिम  (चौथे) लेफ्टिनेंट गवर्नर (उप राज्यपाल )  के पद पर 19. 11. 1915 से 4. 4. 1918 एवं  12. 8. 1918 से 29. 12. 1920 तक रहे थे ,ने 18 दिसम्बर 1920  को महाराजाधिराज रामेश्वर सिंह को  महामहिम वाइसराय और भारत के गवर्नर जनरल द्वारा  महाराजाधिराज का उनके वंशानुगत टाइटल प्रदान किये जाने  की  सुचना देते  हुए जो  पत्र लिखा उसमे उपराज्यपाल ने हाल में  पटना में मेडिकल कॉलेज के स्थापना के लिए उदारतापूर्वक ५ लाख रूपये का दान  दिये जाने का भी उल्लेख किया है।साथ हीं उन्होंने  काफी लम्बे समय से दोस्त होने और ५ वर्षों तक सहकर्मी रहने और   साथ साथ काम करने का भी जिक्र किया है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि आपके पूर्वज मुग़ल बादशाह के अधीन तिरहुत के शासक थे और वर्त्तमान समय में आपका एस्टेट प्रान्त के अन्य कोई झेत्रिय सामंत से काफी विस्तृत है। आप श्रोत्रिय ब्राह्मण के प्रधान हैं और उत्तर भारत के सम्पूर्ण ब्राह्मण समुदाय के नेता के रूप में आपकी  पहचान है। 
Add caption